Breaking News
Home / जयपुर / गायक कलाकार स्व.श्री नाथूसिंह जी के शिष्य गायक कलाकार श्री योगेन्द्र सिंह रोटी कपड़ा के लिए हुआ मोहताज |

गायक कलाकार स्व.श्री नाथूसिंह जी के शिष्य गायक कलाकार श्री योगेन्द्र सिंह रोटी कपड़ा के लिए हुआ मोहताज |

गुरु की मौत से पहुंचा शिष्य के सदमा, मानसिक संतुलन खो दिया |

गायक कलाकार स्व.श्री नाथूसिंह जी के शिष्य गायक कलाकार श्री योगेन्द्र सिंह रोटी कपड़ा के लिए हुआ मोहताज, गुरु की मौत से पहुंचा शिष्य के सदमा, मानसिक संतुलन खो दिया, मददगार कोई नहीं कहते हैं कि गरीबी में टूट जाते हैं वो रिश्ते जो खास होते हैं, दुश्मन भी दोस्त बन जाते हैं जब पैसे पास होते हैं। ये कहावत आज गायक कलाकार स्व.श्री नाथूसिंह जी के शिष्य गायक कलाकार योगेन्द्र सिंह के जीवन में भी सच सार्थक हो रही है। गायक कलाकार स्व.श्री नाथूसिंह जी के शिष्य गायक कलाकार श्री योगेन्द्र सिंह रोटी कपड़ा के लिए हुआ मोहताज |आज इस कलाकार के पास न तो खाने के लिए अन्न है, और न ही तन ढकने के लिए कपड़े। अपने गुरु की याद में मानसिक संतुलन खो देने वाला ये कलाकार रोटी कपड़े का भी मोहताज हो गया है  आज से 21 साल पहले जब ये कलाकार अपने गुरु श्री नाथूसिंह जी के साथ गाते थे तो सब लोग इनके पास आते थे। भाई बन्धु परिवार वाले और अन्य लोग इनका खूब मान सम्मान करते थे। लेकिन अब इनकी आर्थिक स्थिति खराब होने तथा मानसिक संतुलन बिगड़ जाने के कारण इनके सगे संबंधी अपना मुंह मोड़ कर इनसे  दूर हो गये है। ऐसी स्थिति में भी यह कलाकार किसी से कुछ नहीं मांगता है,मेहनत मजदूरी करके खाता है। योगेन्द्र की बूढ़ी मां आज भी अपनी बूढ़ी आंखों से अपने 38 साल के जवान बेटे का मानसिक संतुलन ठीक होने का सपना देख रही है। मां की बस एक तमन्ना है कि मरने से पहले अपने लाड़ले की हालत ठीक हो जाएं। योगेन्द्र की मां ने बताया कि दिनांक 27 दिसंबर 1997ई. में इसके गुरु श्री नाथूसिंह की मौत हो गई थी जिसके कारण इसको बहुत बड़ा सदमा पहुंचा और इस सदमे के कारण योगेन्द्र अपना मानसिक संतुलन खो दिया। योगेन्द्र 21 साल से हर रोज सुबह उठकर अपने गुरु जी श्री नाथूसिंह जी की प्रतिमा की पूजा करते हैं।

हाल ही में श्री नाथूसिंह जी की जन्म स्थली ग्राम बाड़ी जोड़ी में उनकी 21 वीं पुण्यतिथि पर भजन संध्या का आयोजन किया गया जिसमें में योगेन्द्र सिंह ने दो भजन सुनाकर श्रोताओं का दिल जीत लिया। जब योगेन्द्र सिंह ने भजन गाये तो ऐसा लगा कि स्वयं नाथूसिंह जी ही भजन गा रहें हों। गरीबी से जूझ रहे इस कलाकार की आर्थिक सहायता करने लिए अगर कोई व्यक्ति या संस्था आगे आकर मदद करना चाहते हैं तो मेरे मोबाइल नं.9828280072 पर संपर्क कर अपना सहयोग दें सकते। इस कलाकार को आर्थिक संबल की जरूरत है।  मानसिक संतुलन खो चुके गायक कलाकार योगेन्द्र ने स्व.श्री नाथूसिंह जी की पुण्यतिथि पर बाड़ी जोड़ी में अपने भजनों की प्रस्तुति दी जिस सुनकर कोई भी यह अंदाजा नहीं लगा पाए कि ये मानसिक रोगी है।

 

पत्रकार –  विजय पाल सैनी(शाहपुरा)

About SKY RAJASTHAN

Check Also

घोषणा पत्र कों जन घोषणा-पत्र के नाम से जारी किया |

राजस्थान कांग्रेस ने जारी किया घोषणा पत्र |

घोषणा पत्र कों जन घोषणा-पत्र के नाम से जारी किया | राजस्थान कांग्रेस ने जारी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *