Breaking News
Home / कोटा / राजनीति की सबसे बड़ी नीति यही होती है कि उसकी कोई नीति नही होती जहां फायदा वही सुकून |

राजनीति की सबसे बड़ी नीति यही होती है कि उसकी कोई नीति नही होती जहां फायदा वही सुकून |

पार्टी से टिकिट नहीं मिला तो राजनीति के सौदागरों ने अपना भगवान् ही बदल लिया |

 कहते हैं राजनीति की सबसे बड़ी नीति यही होती है कि उसकी कोई नीति नही होती  जहां फायदा वही सुकून । राजस्थान के कोटा में हुआ है एक ऐसा ही राजनीतिक सौदा जिसमे न उम्मीदवार को जनता से सरोकार है और न ही पार्टी को अगर कुछ सरोकार है तो सत्ता सुख से ….क्या है पूरी खबर बताते हैं विस्तार से ।  पार्टी से टिकिट नहीं मिला तो राजनीति के सौदागरों ने अपना भगवान् ही बदल लिया। 24 घंटे पहले तक जिस परिसर में कोंग्रेस जिंदाबाद के नारे गूँज रहे थे वहां अब पूरी तरह भगवाकरण हो गया है। रात बदलते ही नेताजी की विचारधारा बदल गयी,,,पार्टी बदल गयी,,, ईमान बदल गया,,, और राजनीति का  भगवान् भी बदल गया।पार्टी से टिकिट नहीं मिला तो राजनीति के सौदागरों ने अपना भगवान् ही बदल लिया | राजनीति के समर में हर कोई अपने नफा नुकसान के आधार पर अपनी दिशा तय कर रहा है । न तो कोई राजनीतिक मूल्य बचे है ना ही कोई विचार धारा। केवल अवसर वादिता की राजनीति ही रह गई है।  पिछले लोक सभा में कांग्रेस से सांसद रहे इज्यराज सिंह की पत्नी कल्पना देवी जो कल तक कांग्रेस से लाडपुरा सीट का टिकिट मांग रहीं थी और जब उन्हें टिकिट नहीं दिया गया तो उन्होंने अपनी विचारधारा का सौदा कर दिया और ना केवल भाजपा की सदस्यता  ग्रहण कर ली बल्कि उन्हें लाडपुरा सीट से भाजपा का टिकिट भी दे दिया  गया।  वहीँ लाडपुरा में भाजपा से तीन बार से लगातार जीत दर्ज कर रहे विधायक भवानी सिंह राजावत को पार्टी ने बाहर का रास्ता दिखा दिया। भवानी सिंह ने  फूट फूट कर रोकर अपनी लगातार तीन बार जीत की दुहाई भी दी लेकिन सत्ता के सौदागरों को ये मंजूर नही था। क्योंकि ये सौदागर सिर्फ राजनीतिक हित ही समझते हैं यहां बुआवनाओं का कोई स्थान नही पार्टी बदलती है चेहरे बदल जाते हैं लेकिन चरित्र नही बदलता ओर ये अहसास आज कोटा की जनता को बहौत अच्छे से हो गया  कभी जिनमे खामियां ढूंढ़ी जाती थी अब उन्ही के सम्मान में कसीदे पढ़े जाएंगे । सोचना जनता को होगा कि ये पार्टीयां जो सत्ता पाने की लालसा में अपने नेताओं को दूध से मक्खी की तरह निकाल फेंकती हैं क्या वो पार्टीयां कभी भी अपने फायदे से ऊपर उठ कर जनता के फायदे की सोच पाएंगे और ऐसे प्रत्याशी जनता के क्या होंगे जो अपनी पार्टियों के नही हुए । मतदाता अब तो पार्टी से ऊपर उठ कर वो उम्मीदवार चुनों जो खुद से पहले आपकी सोचे ।
पार्टी से टिकिट नहीं मिला तो राजनीति के सौदागरों ने अपना भगवान् ही बदल लिया | पार्टी से टिकिट नहीं मिला तो राजनीति के सौदागरों ने अपना भगवान् ही बदल लिया |
राजस्थान कोटा
रविंद्र सिंह

About SKY RAJASTHAN

Check Also

डीएसपी ने रैपिड एक्शन फोर्स के साथ किया बूथो का निरीक्षण |

डीएसपी ने रैपिड एक्शन फोर्स के साथ किया बूथो का निरीक्षण |

डीएसपी व थाना प्रभारी ने लोगों से बिना किसी डर या भय के मतदान करने …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *